Search for an answer or browse help topics to create a ticket
View all categories

What is consolidation of shares?

(हिंदी में पढ़ें)

Share consolidation is a corporate action in which a company reduces the number of shares trading in the stock exchange. Consolidation of shares is popularly known as ‘reverse stock split’.

A company conducts consolidation of shares by reducing the number of shares held by the existing shareholders.

For example:

If you hold 10,000 shares, a share consolidation of 5:1 means every 5 shares you own will be reduced to 1. So, your 10,000 shares will be reduced to 2000 shares.

When shares are consolidated, the quantity of shares reduces, but the price per share increases, such that your overall investment value remains the same.

Note:

  1. The valuation of the company is affected where the consolidation happens after a reduction of capital.
  2. Like any other corporate action , a company will notify you via email before a stock consolidation.

शेयर कंसोलिडेशन क्या है?

शेयर कंसोलिडेशन एक कॉर्पोरेट एक्शन है जिसमें एक कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में शेयर्स के कारोबार की संख्या कम कर देती है। शेयर कंसोलिडेशन को 'रिवर्स स्टॉक स्प्लिट' के रूप में भी जाना जाता है।

एक कंपनी मौजूदा शेयरहोल्डर्स द्वारा रखे गए शेयर्स की संख्या को कम करके शेयर कंसोलिडेशन करती है।

उदाहरण के लिए:

यदि आपके पास 10,000 शेयर्स हैं, तो 5:1 के शेयर कंसोलिडेशन का अर्थ है कि आपके द्वारा होल्ड किये गए हर 5 शेयर घटकर 1 हो जाएंगे। तो, आपके 10,000 शेयर कम होकर 2000 शेयर हो जाएंगे।

जब शेयर्स को कंसोलिडेट किया जाता है, तो शेयर्स की मात्रा कम हो जाती है, लेकिन प्रति शेयर की कीमत बढ़ जाती है, जिससे आपकी ट्रेडिंग वैल्यू समान रहती हैं ।

ध्यान दें :

1. कंपनी के वैल्यूएशन पर कंसोलिडेशन का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

2. किसी भी अन्य कॉर्पोरेट एक्शन की तरह, एक कंपनी शेयर कंसोलिडेशन से पहले आपको ईमेल के माध्यम से सूचित करेगी।