View all categories

Why did my Banknifty/Nifty option order get rejected?

(हिंदी में पढ़ें)

We are working on reducing our OI utilisation by moving a few clients to our custodian partner - Orbis Financial. 
Learn how you can migrate your account to trade in out of range Nifty/Bank Nifty options
Rejection: 'Fresh buy orders are not allowed for this strike due to OI restrictions.'

You can place buy orders within a given strike price range in Nifty and Bank Nifty options contracts. The restriction is in place only for new long positions outside the allowed range.

The positions of a trading member are capped at Rs. 500 crores or 15% of the overall market Open Interest (OI), whichever is higher. Since many Zerodha clients actively trade and maintain positions in index options, the allowed trading range is restricted to keep the OI utilisation within sanctioned limits. 

You can check the range available for trading on the Kite order rejection:



Important Points:
  1. You can square-off your existing positions even if the strike price is not within the trading range.
  2. You can take new short positions in contracts outside the trading range. The restriction is only in place for buying options.
  3. If you have an existing short position, you can hedge your trade by buying options without any range restriction. 
  4. If you have an unfilled open order while the trading range gets modified to restrict orders for that strike price, you will not be able to modify your existing order.  

मेरे Banknifty / Nifty ऑप्शन ऑर्डर्स को रिजेक्ट क्यों किया गया?


रिजेक्शन: 'OI रेस्ट्रिक्शन के कारण इस स्ट्राइक के लिए नए सिरे से खरीद के आर्डर की अनुमति नहीं है।'

आप निफ्टी और बैंक निफ्टी ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट में दिए गए स्ट्राइक प्राइस रेंज के अंदर ऑर्डर खरीद सकते हैं। अनुमत रेंज से बाहर केवल नए लॉन्ग पोजीशन के लिए रेस्ट्रिक्शन लागू है।
ट्रेडिंग मेंबर के पोसिशन्स पर कैप है और वह रु 500 करोड़ या समग्र मार्किट ओपन इंटरेस्ट (OI) का 15%, जो भी अधिक हो वह है। चूंकि कई Zerodha क्लाइंट एक्टिव रूप से इंडेक्स ऑप्शन में व्यापार करते हैं और पोसिशन्स बनाए रखते हैं, अनुमत रेंज के अंदर OI इस्तेमाल को रखने के लिए अनुमत ट्रेडिंग रेंज रिस्ट्रिक्टेड है।

आप काइट ऑर्डर रिजेक्शन पर ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध रेंज की जांच कर सकते हैं:


महत्वपूर्ण पॉइंट्स:
1. भले ही स्ट्राइक प्राइस ट्रेडिंग रेंज के अंदर न हो, आप अपने मौजूदा पोसिशन्स को स्क्वायर ऑफ कर सकते हैं।
2. आप ट्रेडिंग रेंज के बाहर कॉन्ट्रैक्ट्स में नए शॉर्ट पोजिशन ले सकते हैं। केवल ऑप्शनस खरीदने के लिए ही रेस्ट्रिक्शन है।
3. अगर आपके पास खुला ऑर्डर है जबकि उस स्ट्राइक प्राइस के लिए ऑर्डर सीमित करने के लिए ट्रेडिंग रेंज बदल दी जाती है, तो आप अपने मौजूदा ऑर्डर को बदल नहीं पाएंगे।
4. हम अपने कस्टोडियन पार्टनर - ओर्बिस फाइनेंशियल को कुछ क्लाइंट्स को मूव करके हमारे OI इस्तेमाल को कम करने पर काम कर रहे हैं। और जानें