Search for an answer or browse help topics to create a ticket
View all categories

Why does the LTP under holdings not match with the Marketwatch?

(हिंदी में पढ़ें)

There are two stock exchanges in India: The National Stock Exchange (NSE) and the Bombay Stock Exchange (BSE).

The stocks in your Demat account don’t belong to any exchange. You can only buy or sell on exchanges. However, the stock is not mapped to any particular exchange. You can sell them on whichever exchange you want to, or wherever the price is higher (regardless of the exchange you have bought the stocks from).

Your stock holdings on Kite will always display the Last Traded Price (LTP) from the exchange where the Previous closing price is higher for the stock. However, there is a toggle option on the order form where you can switch between the exchanges while placing the order.

This means that the buyer on one exchange is quoting a higher price for your stock compared to a buyer on the other exchange. This gives you the benefit of selling your stock on the exchange which is giving you a higher price for your holdings.

The LTP displayed on your holdings might not match with the LTP on the Market watch. This is because you might have added the stock on the market watch from NSE, and the LTP shown on your holdings might be displayed as per the quote on BSE (because the price was higher on BSE), or vice versa.

होल्डिंग्स के नीचे जो LTP होता है, वह मार्केट वॉच से अलग क्यों होता है?

भारत में दो स्टॉक एक्सचेंज हैं: नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE)।

आपके डीमैट अकाउंट के शेयर किसी भी एक्सचेंज के नहीं होते। आप एक्सचेंजों पर सिर्फ खरीद और बेच सकते हो। हालांकि, स्टॉक को किसी विशेष एक्सचेंज पर मैप नही किया जाता है। आप अपने इच्छानुसार किसी भी एक्सचेंज पर बेच सकते है, या जिस एक्सचेंज पर कीमत ज्यादा है उस एक्सचेंज पर बेच सकते है। (भले वह स्टॉक आपने किसी भी एक्सचेंज से क्यों न खरीदा हो)!

काइट पर आपके स्टॉक होल्डिंग्स हमेशा एक्सचेंज से लास्ट ट्रेडेड प्राइस (LTP) प्रदर्शित करेंगे, जहां स्टॉक के लिए पिछला क्लोजिंग प्राइस अधिक होता है। हालांकि, ऑर्डर फॉर्म पर एक "टॉगल ऑप्शन" है जहां आप ऑर्डर प्लेस करते समय एक्सचेंजों के बीच स्विच कर सकते हैं।

इसका मतलब यह है कि एक एक्सचेंज पर खरीदार दूसरे एक्सचेंज के खरीदार की तुलना में आपके स्टॉक के लिए एक उच्च कीमत देने को तैयार है। इसमें आपका लाभ यह होगा की जो एक्सचेंज आपको होल्डिंग्स के लिए ज्यादा कीमत दे रहा है, आप उस एक्सचेंज में आपका स्टॉक बेच सकते है।

ऐसा हो सकता है कि आपके होल्डिंग्स पर प्रदर्शित एलटीपी(LTP - लास्ट ट्रेडिंग प्राइस) मार्केटवॉच पर LTP के साथ मेल नहीं खाए । ऐसा इसलिए है की आपने मार्केट वॉच से NSE(एक्सचेंज) पर का स्टॉक लगाया होगा, और आपके होल्डिंग्स पर दिखाए गए LTP को BSE पर के कीमत के अनुसार प्रदर्शित किया गया होगा (क्योंकि BSE पर कीमत अधिक थी), या इसके विपरीत।